logo

Mansi Sonawane: MBBS पढ़ाई छोड़, करी UPSC क्लियर फिर दिखाया अपना जलवा, जानें मानसी सोनवणे की स्टोरी

whatsapp chat click here to check telegram
Mansi Sonawane

अपने सपनों को पूरा करने के लिए हर कोई संघर्ष करता है, लेकिन जो अपने माता-पिता के अधूरे सपनों को पूरा करते हैं उनकी सफलता और भी खास हो जाती है। हम आपको ऐसे ही एक अफसर की कहानी बताने जा रहे हैं, जिन्होंने अपने पिता का सपना पूरा करने के लिए एमबीबीएस की पढ़ाई छोड़ दी।

ये अधिकारी हैं मानसी सोनावणे, जो महाराष्ट्र के औरंगाबाद की रहने वाली हैं। मानसी ने अपनी स्कूली पढ़ाई नासिक से पूरी की है, जबकि उन्होंने औरंगाबाद के गवर्नमेंट कॉलेज से आर्ट्स में ग्रेजुएशन किया है।

मानसी के पिता एक अकाउंटेंट हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि वह खुद सिविल सर्विसेज में जाना चाहते थे, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली. मानसी ने 12वीं के बाद मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट पास कर ली थी और एमबीबीएस में दाखिला ले रही थी। लेकिन अपने पिता के अधूरे सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने एमबीबीएस छोड़कर आर्ट्स में एडमिशन लिया और सिविल सर्विसेज की तैयारी करने लगीं।

मीडिया से बात करते हुए मानसी कहती हैं कि उन्होंने ग्रेजुएशन के बाद से ही सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरू कर दी थी. पहले साल में उन्हें परीक्षा और यूपीएससी चयन प्रक्रिया के बारे में समझ आया. उन्होंने अपनी तैयारी एनसीईआरटी की किताबों से शुरू की और फिर रेफरेंस बुक्स की मदद ली।

ग्रेजुएशन के तुरंत बाद, वह यूपीएससी परीक्षा में शामिल हुईं। वह मीडिया इंटरव्यू में बताती हैं कि, पहले साल उन्होंने परीक्षा को समझने के लिए पेपर दिया था। दूसरे प्रयास में वह सफल नहीं हो सकीं क्योंकि उनसे कुछ गलतियां हो गईं. अपनी गलतियों से सीखते हुए उन्होंने तीसरे प्रयास में यूपीएससी परीक्षा पास कर ली.

उन्होंने यूपीएससी 2021 परीक्षा में 627वीं रैंक हासिल की। उन्हें भारतीय रक्षा लेखा सेवा में रक्षा लेखाकार के रूप में चुना गया था। मानसी की कहानी हमें सिखाती है कि लक्ष्य हासिल करने के लिए जोखिम लेने से पीछे नहीं हटना चाहिए और असफलता के बाद भी हार नहीं माननी चाहिए, बल्कि प्रयास करते रहना चाहिए, एक दिन हमें सफलता जरूर मिलेगी।