logo

हरियाणा में इस शहर में मिल रहा 10 रुपए में भरपेट खाना, हर रोज 700 से ज्यादा लोग खाते हैं यहां खाना

NEWS

-बिना मसाले का घर जैसा खाना, खाने के लिए लगती है लंबी लाइन 

एक कहावत कही जाती है कि खाना तो घर का ही बेहतर होता है, बाहर तो बस पेट भरने के लिए ही खाते हैं। अगर आपको घर जैसा ही बिना ज्यादा मसाले वाला खाना मिल जाए और वो भी मात्र 10 रुपए में तो आप तो कहोगे ही वाह भाई वाह। हरियाणा के इस शहर में ऐसा हो रहा है। यहां मात्र 10 रुपए में भरपेट भोजन मिलता है। दोपहर को 12 बजे से तीन बजे तक 10 रुपए मे मिलने वाले इस खाने के लिए लंबी लाइनें लगती हैं। हम आपको बताते हैं कि कहां और किस तरह से यह खाना तैयार कर खिलाया जा रहा है। 

हरियाणा के पानीपत जिले में एक ऐसी कैंटीन खुली है जहां मात्र 10 रुपये में लोग भर पेट खाना खा सकेंगे। दरअसल श्रम विभाग की तरफ से पानीपत के कुटानी रोड वर्मा चौक पर एक ऐसी कैंटीन खोली गई है, जहां मजदूर, ऑटो चालक, रिक्शा चालक, दिव्यांग व तमाम मजदूर वर्ग मात्र 10 रुपये में खाना खा सकते हैं। आप जानकर हैरान होंगे कि मात्र 10 रुपये की थाली में आपको दो सब्जियां चार रोटी और चावल मिलेंगे।


श्रम विभाग की तरफ से शुरू की गई इस योजना से ना सिर्फ गरीबों को 10 रुपये में निवाला मिल रहा है बल्कि 10 से 15 लोगों को रोजगार भी मिल रहा है। विभाग की इस योजना से महिलाओं का एक स्वयं सहायता समूह तैयार किया गया है जिसमें 10 महिलाएं शामिल हैं। यह सभी 10 महिलाएं खाना बनाने से लेकर परोसने तक का सब काम करती है। वहीं यह महिला राशन लाने का काम भी खुद ही करती हैं।

700  से ज्यादा लोग रोजाना खाना खा रहे
पूजा स्वयं सहायता समूह की सचिव रानी ने बताया कि सरकार की यह बेहद अच्छी योजना है जिससे न सिर्फ गरीबों को भोजन मिल रहा है वहीं हम जैसी महिलाएं जो घर बैठी थी उन्हें रोजगार भी मिल रहा है। उन्होंने बताया की थाली में चार रोटी चावल और दो सब्जियां मिल रही हैं। इतना ही नहीं उन्होंने कहा अगर किसी को एक्स्ट्रा सब्जी की जरूरत पड़ती है तो हम उसे मना भी नहीं करते हैं।

वहीं उन्होंने बताया कि इस योजना के अंतर्गत वह 10 रुपये खाना खाने वालों से लेते हैं तो वहीं 25 रुपये सरकार की तरफ से उन्हें सहायता के रूप में मिलते हैं। उन्होंने बताया जब से उन्होंने यह कैंटीन शुरू की है काफी लोग यहां पर भोजन करने आ रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से तो यहां 700 से ज्यादा लोग रोजाना भोजन कर रहे हैं।


कैंटीन में खाना खाने वाले लोग खुश
कैंटीन में भोजन करने पहुंचे मजदूर ने बताया कि यह कैंटीन की योजना उन्हें किसी सौगात से कम नहीं लग रही है। उन्होंने बताया इससे पहले वह बाहर खाना खाते थे तो उन्हें 50 से 60  रुपए एक वक्त के खाने के देने पड़ते थे, लेकिन अब यह कैंटीन खुलने से उनकी काफी बचत हो रही है और खाना भी अच्छा मिल रहा है। मजदूरों ने बताया कि महंगाई कैसे दौर में उन्हें दो वक्त का खाना खाने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है और वह पैसा जो कमाते हैं। वह खाने में ही चला जाता था लेकिन इस कैंटीन के खुलने से उन्हें काफी बचत हो रही है उन्होंने कहा कि ऐसी कैंटीन जगह-जगह खुलनी चाहिए और इन कैंटिनो में दो वक्त के खाने की व्यवस्था की जानी चाहिए

Click to join whatsapp chat click here to check telegram