logo

आम आदमी पार्टी के जिला अध्यक्ष हैप्पी रानियां का बयान,सिरसा में मंडरा रहा बाढ़ का खतरा: हैप्पी रानियां

xaax

घग्गर के तटबंधों को मजबूत करने के लिए नहीं किया कोई काम: हैप्पी रानियां

पिछले साल की बाढ़ से हुआ हजारों लोगों को नुकसान: हैप्पी रानियां

हजारों किसानों को अब तक नहीं मिला कोई मुआवजा: हैप्पी रानियां

बीजेपी सरकार को लोगों के जान-माल के नुकसान से कोई लेना-देना नहीं: हैप्पी रानियां

सिरसा के लोग इस बार भाजपा को सबक सिखाने का काम करेंगे: हैप्पी रानियां

सिरसा, 8 जुलाई

आम आदमी पार्टी के जिला अध्यक्ष हैप्पी रानियां ने सिरसा में घग्गर नदी के तटबंधों के मजबूत नहीं करने से मंडरा रहे बाढ़ के खतरे को लेकर बीजेपी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि आगामी मानसून के सीजन को देखते हुए घग्गर नदी के तटबंधों को मजबूत करने के लिए बीजेपी सरकार ने कोई काम नहीं करवाया। पिछले साल भी बाढ़ से हजारों लोगों का जान माल का नुकसान हुआ था। इसके बावजूद भी बीजेपी सरकार ने कोई सबक नहीं लिया। बीजेपी सरकार को किसानों और लोगों से कोई मतलब नहीं है।

उन्होंने कहा कि पिछले बार बाढ़ से हुए नुकसान के हजारों आवेदन आए थे, लेकिन बीजेपी ने एक भी पैसे का मुआवजा जारी न कर किसानों की कमर तोड़ने का काम किया। आज स्थिति ये कि सिरसा जिले के जिन किसानों की फसल पानी में डूबी थी। वहां आजतक भी सूखी रेत की सफाई नहीं हुई है। इसके साथ पिछली बार की बाढ़ से कोई सबक लेने का काम नहीं किया गया। सिरसा में घग्गर के किनारे पिछले एक दशक से तटबंधों को मजबूत करने का कोई काम नहीं हुआ। इसके कारण हर बार मानसून की बारिश में सिरसा में बाढ़ आ जाती है। 

उन्होंने कहा कि सिरसा जिले में घग्गर नदी ने खूब उत्पात मचाया था। उसके तटबंधों को मजबूत करने का भी कोई काम नहीं किया गया। सिरसा के लोगों के जान माल से बीजेपी सरकार को कोई लेना देना नहीं है। बीजेपी केवल अपनी राजनीति में मशगूल है। पिछले बार भी नदी के तटबंधों को मजबूत करने के लिए जो करोड़ों रुपए आए थे, वो भी वापस चला गया, लेकिन बीजेपी सरकार ने कोई भी काम नहीं किया। 

उन्होंने कहा कि इससे पता चलता है कि बीजेपी सरकार ने पिछली बार की बाढ़ से कोई सबक नहीं लिया है। बीजेपी सरकार इस बार भी महज खानापूर्ति करने का काम करवा रही है। बरसात शुरू होने के बाद ही नदियों के तटों पर पत्थर डालने का काम शुरू किया है। इस बार भी सिरसा में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। अगर, मुख्यमंत्री नायब सिंह को लोगों की जान माल की परवाह नहीं है। तो लोग इसका जवाब आने वाले चुनावों में वोट की चोट से देने का काम करेंगे। इस बार सिरसा के लोग बीजेपी को सबक सिखाने का काम करेंगे।

Click to join whatsapp chat click here to check telegram