logo

हरियाणा सरकार ने किसानों के हित में बड़ा फैसला लिया है, इन किसानों को मिलेगा मोटा मुआवजा

Haryana government has taken a big decision in the interest of farmers, these farmers will get huge compensation
हरियाणा सरकार ने किसानों के हित में बड़ा फैसला लिया है, इन किसानों को मिलेगा मोटा मुआवजा

हरियाणा के मुख्यमंत्री नायब सिंह के दूरदर्शी नेतृत्व में, सरकार पूरे हरियाणा में गुणवत्तापूर्ण बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए ट्रांसमिशन लाइनों की स्थापना में तेजी लाने के लिए प्रतिबद्ध है।

इस संदर्भ में, ऊर्जा विभाग ने ट्रांसमिशन परियोजनाओं से प्रभावित भूमि मालिकों को उचित मुआवजा प्रदान करने के लिए एक नई मुआवजा नीति शुरू करके राज्य में बुनियादी ढांचे के विकास की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है।

इस पहल का उद्देश्य भूमि मालिकों, विशेषकर किसानों और ट्रांसमिशन उपयोगिताओं के बीच लंबे समय से चले आ रहे मुद्दों को हल करना है।

हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम लिमिटेड की ट्रांसमिशन लाइनों की स्थापना के दौरान भूमि मालिकों, विशेषकर किसानों और लाइन निर्माण इकाई के बीच गतिरोध पैदा हो गया है, जिससे इस महत्वपूर्ण और बुनियादी ढांचे के निर्माण में देरी हो रही है। इस नीति के लागू होने से अब बुनियादी ढांचे के निर्माण में तेजी आएगी।

 ज्ञातव्य है कि भारत सरकार के ऊर्जा मंत्रालय द्वारा एफ. नं. 3/4/2016-ट्रांस-पार्ट (4) दिनांक 14 जून 2024 के तहत जारी दिशानिर्देशों के अनुसार राइट ऑफ वे (आरओडब्ल्यू) के मुआवजे के लिए ट्रांसमिशन लाइन्स, हरियाणा सरकार ने नीति को मंजूरी दे दी है।

नई नीति में किए गए प्रावधान

 जहां ट्रांसमिशन टावर स्थापित किए गए हैं, वहां भूमि अधिग्रहण किए बिना भूमि मूल्य के 200 प्रतिशत की दर से टावर बेस क्षेत्र का मुआवजा दिया जाएगा। इसके विपरीत, पिछली नीति में टावर बेस एरिया का मुआवजा भूमि मूल्य के 100 प्रतिशत की दर से तय किया गया था।

 ट्रांसमिशन लाइन कॉरिडोर के लिए भूमि मूल्य के 30 प्रतिशत की दर से राइट-ऑफ-वे कॉरिडोर के लिए मुआवजा प्रदान किया जाता है। इसके विपरीत, पिछली नीति में रास्ते के अधिकार वाले गलियारों के लिए मुआवजा शामिल नहीं था।

 किसानों की फसल का मुआवजा पिछली नीति के अनुसार दिया जाएगा। मुआवजे की दरें जमीन के सर्किल रेट या कलेक्टर रेट के आधार पर तय की जाएंगी.

इसके अलावा, जहां भूमि की बाजार दर सर्किल/कलेक्टर दर से अधिक है, मुआवजे की गणना के लिए भूमि दर निर्धारित करने के लिए जिला स्तर पर उप-विभागीय मजिस्ट्रेट, जिला राजस्व अधिकारी और अधीक्षण अभियंता (एचवीपीएनएल) का एक 'उपयोगकर्ता' समिति बनाई गई है। गठित।

 मुख्यमंत्री ने कहा कि नई नीति से किसानों को दिए जाने वाले मुआवजे में काफी वृद्धि होगी और इसका उद्देश्य प्रभावित भूमि मालिकों के लिए उचित मुआवजा सुनिश्चित करते हुए ट्रांसमिशन लाइनों के कार्यान्वयन को सुव्यवस्थित करना है। इस पहल से राज्य के बुनियादी ढांचे को बढ़ावा मिलने और इसके बहुमुखी विकास में योगदान मिलने की उम्मीद है।

Click to join whatsapp chat click here to check telegram