logo

यहां सरेआम लगती है मर्दों के जिस्म की बोली ! अमीर घरों की औरतें आती है खरीदने ! दिल्ली की इन गलियारों में सजती है मर्दों के जिस्म की मंडी !

Men's bodies speak openly here! Women from rich houses come to buy! The market of men's bodies is decorated in these corridors of Delhi!

whatsapp chat click here to check telegram
DELHI

देश की राजधानी दिल्ली अपनी सुविधाओं और आकर्षण के लिए हमेशा से सुर्ख़ियों में रही है। लेकिन दिल्ली के कुछ राज ऐसे भी हैं जिन्हें आपने कभी सुना भी नहीं होगा। बता दें कि दिल्ली में कुछ ऐसी जगहें हैं जहां रात 10बजे के बाद सिर्फ लड़कियों का ही नहीं बल्कि लड़कों का भी जाना काफी मुश्किल हो जाता है। ये एक ऐसा इलाका है जहां जाने से लड़के कतराते हैं।

HARDUM HARYANA NEWS

देश की राजधानी दिल्ली अपनी सुविधाओं और आकर्षण के लिए हमेशा से सुर्ख़ियों में रही है। लेकिन दिल्ली के कुछ राज ऐसे भी हैं जिन्हें आपने कभी सुना भी नहीं होगा। बता दें कि दिल्ली में कुछ ऐसी जगहें हैं जहां रात 10बजे के बाद सिर्फ लड़कियों का ही नहीं बल्कि लड़कों का भी जाना काफी मुश्किल हो जाता है। ये एक ऐसा इलाका है जहां जाने से लड़के कतराते हैं।

वजह जानकार शायद आपके भी होश उड़ जायेगें क्योंकि यहां लड़कियों की नहीं बल्कि लड़कों की बोलियां लगाई जाती हैं और यहां शाम होते-होते मर्दों का बाजार सजना शुरू हो जाता है। दिल्ली के इन इलाकों को जिगोलो मार्केट के नाम से जाना जाता है। इस बाजार में अमीर घरानों की औरतें लड़कों की बोलियां लगाने आती हैं। बाजार में औरतें मर्दों को मुंहमांगा पैसा देती हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली के इस इलाके में ये कारोबार हर रात होता है जो 10 बजे से शुरू होकर सुबह 4 बजे तक चलता है। आमतौर पर इस तरह के कारोबार छुपकर किए जाते हैं। लेकिन राजधानी दिल्ली में ये कारोबार खूब चलता है और छुपकर नहीं बल्कि खुलेआम होता है।

जिगोलो बाजार में मर्दों की कुछ घंटों की कीमत 2000 से शुरू होकर 4000 रुपए और पूरी रात की कीमत 10,000 रुपए तक होती है। कुछ मर्द इस कारोबार को अपना प्रोफेशन बना चुके हैं। तो कुछ मर्द ये काम अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए करते हैं।

दिल्ली में मर्द कहां बिकते हैं?

जिगोलो बाजार में ये काम सिस्टमैटिक तरीके से किया जाता है। मर्दों की जितनी कमाई होती है उन्हें उसका 20 फीसदी हिस्सा उस संस्था को देना पड़ता है जिससे वो जुड़े होते हैं। इसमें मर्दों की बोली उनके चेहरे को देखकर नहीं की लगाई जाती। बल्कि मर्दों के गले में पट्टा और हाथ में रुमाल से लगाई जाती हैं। यही इन मर्दों की पहचान होती है।

आपको ये भी बता दें, कि राजधानी दिल्ली में ये काम बहुत ही तेजी के साथ फैल रहा है।

और मर्दों का ये बाजार दिल्ली के पॉश एरिया जैसे साऊथ एक्सटेंसन, सरोजनी नगर, जेएनयूरोड, आईएनए, कनॉट प्लेस में लगता है।